कविता लिखी नहीं जाती,स्वतः लिख जाती है…

Sunday, 29 January, 2012

शायराना अदांज़-1

आसां न होगा राहे इश्क पे चलना
पर हो गया जब,फिर क्या गिला करना,
रोके कब रुका है राहगीरों के इश्क
गज़ब का अहसास है किसी से प्यार करना।

सितम्बर 24, 2011

No comments:

Post a Comment