कविता लिखी नहीं जाती,स्वतः लिख जाती है…

Tuesday 27 March 2012

नसीब से आज दीदार-ए-यार हो गया


नसीब से आज दीदार-ए-यार हो गया
हर क़लमा खिला,खुश गवार हो गया।
रूह से रूह का ऐतबार आज हो गया
जिस्म प्यार का गवह-गार हो गया।
देखा निगाहों ने जी-भर के आज खुद को
निगाहों को यार की पनाहों से प्यार हो गया।
धड़कनें बढ़ने लगीं-साँस तेज़ चल पड़ी
हो गये यार के जब क़ुबूल-ए-इज़हार हो गया।
अब तो इश्क की मुश्क का आलम न पूछो
यार ही मेरा ख़ुदा,ख़ुदा ही प्यार हो गया।
मौला हर आयत पे है नाम तेरा ही खुदा
आ पढ़ ले अब खुद,आयत ही प्यार हो गया।

6 comments:

  1. अब तो इश्क की मुश्क का आलम न पूछो
    यार ही मेरा ख़ुदा,ख़ुदा ही प्यार हो गया।

    सच्चे प्यार में तो रब का ही निवास होता है.

    खूबसूरत गज़ल.

    ReplyDelete
    Replies
    1. रूह से रूह का ऐतबार आज हो गया
      जिस्म प्यार का गवह-गार हो गया। .....
      मौला हर आयत पे है नाम तेरा ही खुदा
      आ पढ़ ले अब खुद,आयत ही प्यार हो गया।
      SACCHE PYAR KA IJHAR KARTI GAZAL

      Delete
  2. WAH WAH WAH....BAHUT UMNDA GAZAL...
    PADH KE YE GAZAL ...JO HAMNE BHI MUND LI JARA AANKHEIN APNI...
    YAHIN BAITHE-BAITHE UNKA "DEEDAAR" HO GAYA....

    WAH JI BAHUT KHUB...
    KABHI SAMAY HO TO MERI BLOG PE BHI VISIT KAREI...
    http://kalpverma.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. WAH WAH WAH...BHAUT KHUB GAZAL HAI...

    HAMNE BHI YE GAZAL PADH KE...
    JARA MUND LI JO APNI AAKHEIN...
    YAHI BAITHE-BAITHE UNKA "DEEDAAR" HO GAYA...

    KABHI SAMAY HO TO MERI BLOG PAR BHI "TASHREEF" LAYEIN...
    http://kalpverma.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. अब तो इश्क की मुश्क का आलम न पूछो
    यार ही मेरा ख़ुदा,ख़ुदा ही प्यार हो गया।
    अशआर अच्छे लगे मुबारक हो .....

    ReplyDelete